मेरी 20 साल की साँवली नौकरानी

मैं दिल्ली मैं रहता हूँ मेरा नाम शान है उमर 20 साल मेरे पापा ऑस्ट्रेलिया मैं कस्टम ऑफीसर है और मम्मी स्कूल मैं टीचर हमारे यह 1 नौकरानी है धनो नाम की उसकी उमर भी 20 साल की है उसका रंग सवला है और फेस कटिंग एकदम अमीशा पटेल की तरह है उसके बॉल(बूब्स) एकदम बड़े है और उसकी गान्ड है एकदम बाहर है मैं उसको चोदने का ख्वाब बहुत पहले से देखता हो मेरा ये सपना पूरा हुआ जब मेरी मम्मी ऑस्ट्रेलिया मेरे पापा के पास गयी वो दिन मैं घर मैं था सुबह धनो आई तो मैंने दरवाजा खोल दिया वो

read more

मौसी की चूत में झटका लगाया

दोस्तों मेरा नाम राज है और में अहमदाबाद गुजरात का रहने वाला हूँ और मेरे परिवार में मम्मी antarvasna Kamukta hindi sex indian sex chudai Kahania पापा और मेरी एक एक बहन है जिसकी अब शादी हो गयी है और वो अब अपने ससुराल चली गई है। दोस्तों मेरी उम्र 27 है और में अपने पापा के साथ उनके बिजनेस में उनका हाथ बंटाता हूँ। दोस्तों मुझे बचपन से ही सेक्स करना बहुत अच्छा लगता था। दोस्तों एक दिन में शाम को अपने घर पर आया तो मुझे मेरी मम्मी ने बताया कि तुम्हारी रचना मौसी आई हुई है और वो अब करीब एक तक हमारे घर पर ही रहेगी।

read more

ऑफीस मे चुदाई

मेरा नाम कुमार है और मैं दिल्ली से हूँ. मेरी आगे 26 साल है. ई में 5’7” और मेरा लंड 7″ लंबा और 3.5″ मोटा है. ये मेरी पहली ट्रू स्टोरी है जो की मैं आप सब के सामने पेश कर रहा हूँ. जब मैंने अपनी ग्रेजुएशन कंप्लीट की तो मैंने एक प्राइवेट कंपनी नौकरी के लिए अप्लाइ किया तो वहां से जल्दी हे बुलवा आ गया. जब मैं इंटरव्यू देने के लिए गया तो वहां पर एक लेडी लड़की जिसकी उमर 24-25 साल की होगी उसने मेरा रेज़्यूमे लिया ओर बांतने को क्या मैं बैठ गया तो मैं काफी देर से यह महसूस कर रहा था की वो मुझे काफी देर गुर रही है. तकरीबन आधे घंटे बाद मुझे कंपनी के में.द. ने बुलाया ओर कहा के आप कल मैनेजर की पोस्ट आ सकते है. मुझे बहुत खुशी हुई ओर मैं जैसे हे जाने लगा तो वो लड़की आई ओर मुझे उसने बड़ी प्यार से कंग्रॅजुलेशन कहा ओर हाथ मिलाया ओर मैं चला गया. नेक्स्ट दिन जब सुबह ऑफिस आया तो मुझे ऑफिस वर्क ज्यादा नालेज नहीं थी तो मैंने उस लड़की से कहा के के वो मेरी ऑफिस वर्क मदद कर सकती है तो उसने कहा के सर आप मेरे सीनियर है ओर आप जो कहेंगे वो मैं बता दूँगी. मैं आपको बता दो की वो ऑफिस मैं काफी पूरेानी थे ओर उसका फिगर मैं क्या बताओ देखते हे लगता था की अभी उसको पकड़ कर चोद लेकिन नहीं नहीं जॉब थे इस लिया मैं चुप रहा. ऐसे हे हम दोनों काफी घुल मिल गये तो जब भी उस से कुछ पूछता तो वो फौरन हे जवाब देती जैसे लगता था की वो मुझे लाइन दे रही लेकिन में इग्नोर करता रहता. अब उस लगता था की उसकी बात नहीं बन रही है तो उसने दूसरे तरीके से बात करनी शुरू कर दी जैसे हे मैं उस से कुछ पूछता वैसे हे वो थोड़ा झुक कर मेरे मुझे अपने पहाड़ जैसे मुम्मे दिखाने लगती जैसे हे मैं उस देखता तो वो इधर उधर देखने लगती. एक दिन ऑफिस मैं कोई ज्यादा तार सारे ऑफिस के काम से बाहर गये थे ओर उस दिन पिओन भी नहीं आया था तो वो कुछ पूछने के लिए मारी चेयर के पीछे आकर खड़ी हो गई तो जैसे हे मैंने पीछे मूंड़ कर देखा तो वो बिलकुल मेरी चेयर के सात कर खड़ी थी तो एक पेपर देते हुए कहा के सर ये किसको भेजना है ओर मेरे सामने पेपर रखते वक्त वो अपने मम्मी मेरे कंधे से टच कर

read more

अपने दोस्त की मौसी को चोदा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राज शाह है antarvasna Kamukta hindi sex indian sex chudai Kahania में गुजरात अहमदाबाद का रहने वाला हूँ और में कामुकता डॉट कॉम का पिछले कुछ सालों से पाठक हूँ। मैंने अब तक इसकी बहुत सारी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी है, जिनको पढ़कर मुझे बहुत मज़ा आता है। दोस्तों आज जो कहानी में आप सभी के लिए लेकर आया हूँ, यह मेरी पहली सच्ची घटना है। दोस्तों मेरी फेमिली में मेरी मम्मी, पापा और मेरा एक भाई है और यह कहानी मेरी और मेरे एक बहुत अच्छे दोस्त की मौसी की है, जिसका नाम दिव्या है। दोस्तों दिव्या की उम्र करीब 28 साल थी और उसका एक 4 साल का बेटा भी था। दिव्या का पति एक प्राईवेट कम्पनी में नौकरी करता था और उसका चक्कर उसी के ऑफिस की एक लड़की के साथ था और इसलिए वो दिव्या का ज्यादा ख्याल नहीं रखता था और ना ही वो उसके बेटे की परवाह किया करता था, यहाँ तक कि उसे पूरे सात महीने हो गए थे और दिव्या को उसने हाथ भी नहीं लगाया था, लेकिन दोस्तों आख़िर दिव्या भी एक औरत थी और वो सेक्स के बिना कैसे रह सकती थी? फिर भी उसने अपनी मर्यादा को अभी तक नहीं तोड़ा था, लेकिन उसके पति ने एक दिन उससे कहा कि वो अब दिव्या को बहुत जल्दी तलाक दे देगा।

read more

साले की बीवी

ए बड़ी ही रेर टाइप का इन्सिडेंट है, कई बार देखा गया है इन-लॉस में सास, और साली के साथ जमाई राजा का हम बिस्तर होना
लेकिन साले की बीवी के साथ सेक्स का अनुभव बहुत ही कम बार देखा गया है… कहानी की शुरूवात कुछ इस प्रकार है…
(ओन्ली नेम्स अरे फीकटीऔस और थे स्टोरी इस रियल वन)
मेरा नाम विजय है, लगभग 12 साल पहले मेरी शादी सुधा से हुई, शादी के तुरंत 2 साल में ही हम
कपल ने 2 लड़कोन को जन्म दे दिया और हम दो हमारे दो को सार्थक कर दिया, हमारे बीच में बहुत ही अच्छे रिलेशन्स है
हम दोनों एक दूसरे से पूरी तरह सॅटिस्फाइड है, मैं और मेरी पत्नी दोनों ही एक दूजे के प्रति वफादार है…
हमारी शादी के वक्त मेरा एकलौता साला अभिजीत 18 (***एडिटेड***) साल का था और पढ़ाई कर रहा था…
हमारी शादी के 8 साल बाद अभिजीत का एजुकेशन पूरा हो गया और वो बढ़िया सी जॉब पे फिट हो गया…
फिर क्या था उसके लिए सुन्दर गोरी चिट्ठी पुष्पा का सुझाव आया तो सभी ने उस रिश्ते के लिए हां कर दी…
इस साल उनकी शादी की 4त आनिवर्सयरी थी लेकिन शादी के 4 साल बाद भी बच्चा ना होने से दोनों ही परेशान थे..
मैंने और सुधा ने दोनों को डाक्टरी इलाज के लिए उकसाया और दोनों का हर एक चेक आप करवाया लेकिन दोनों बिलकुल भी फिट थे
उन दोनों में कोई भी शारीरिक प्राब्लम नहीं थी… ये बात बहुत ही हैरानी वाली थी..
मेरी सास और ससुर दोनों ही परेशान हुए जा रहे थे एकलौता लड़का और उसे कोई संठान नहीं
पुजापाठ, जप, तंत्र, मंत्र, दवाई सब कुछ ट्राइ हो चुकी थी लेकिन परिणाम कुछ नहीं …
मैंने और सुधा ने प्राइवेट्ली अभिजीत और पुष्पा से बात की की कही उन दोनों के शारीरिक संबंधों में तनाव या कोई प्राब्लम तो नहीं,
लेकिन ऐसा कुछ भी उन दोनों के बीच में प्राब्लम वाला नहीं था.. मैं और सुधा दोनों ही परेशानी में डूब गये.
उसे दिन आनिवर्सयरी सेलेब्रेट करने के लिए सुधा, मैं और बच्चे रीडी हो गये.. सुधा बहुत ही सेक्सी लग रही थी.. हमने बच्चों को हॉल में
बिठा के कार्टून नेटवर्क लगा दिया और बेडरूम बंद करके ड्रेसिंग से बहाने एक दूसरे के चूमने लगे. 12 साल की शादी शुदा जिंदगी में मैंने
उसे दिन तक किसी भी और नारी का विचार अपने मन में आने ना दिया और सुधा से भी इम्तहान प्यार करते रहा सुधा भी अपनी पूरी जवानी और
हुस्न मुझपर लुटाती रही .. बेडरूम में हमने साले की आनिवर्सयरी सेलेब्रेट कर ली और खूब सेक्स किया…
उसके बाद हम आनिवर्सयरी वेन्यू पे जाने के लिए रीडी हो गये..
मैं सुधा और बच्चे जैसे ही मेरे ससुराल पोंछे हमारा ज़ोर शोर से स्वागत किया गया..
पुष्पा निःसंठान होने की वजह से बच्चों को बहुत प्यार करती थी और हमारे बच्चों को तो उसने जैसे खुदके बच्चे ही समझ के रखा और
उनकी हर जिद पूरी करती ..
पार्टी खत्म होने वाली थी बच्चे सोने के लिए नाना नानी के कमरों में जा रहे थे के हमारे छोटे लड़के ने पुष्पा के सारी पे आइस्करीम गिरा
दिया, पुष्पा ने कुछ नहीं कहा उल्टा बच्चों को और चॉकलेट दिए और उन्हें नाना नानी के कमरों तक पहुँचा दिया ..
मेरा ध्यान मेरे साले साहब पे गया वो एकदम टेन्स दिखाई दे रहा था…
मैंने सुधा को इशारा किया तो सुधा अभिजीत से बात करने के लिए गयी…
मैं मन ही मन में सोच रहा था की हे भगवान कितना सुन्दर कपल है ये, और इनके संठान नहीं..
सुधा और अभिजीत लॉन में बैठे बातें कर रहे थे की इतने में पुष्पा वहां सारी चेंज करके आई..
बाला की खूबसूरती पाई थी उसने गोरा चीट्टा बदन, भरे हुए मध्यम आकर के स्तन, ऐसी लग रही थी जैसे अभी अभी दूध से नहा के
आई थी..
लगभग 5.3 इंच हाइट थी, अभी 24 साल की थी , मैं खुद की तारीफ नहीं करूँगा दोस्तों मैं तो उसे अप्सरा की तारीफ करूँगा.
काले घने बाल, भरपूर मजबूत कंधे सुडौल और पर्फेक्ट फिगर.. जिसे देखकर कोई भी लालचा जाए ऐसी..
सुधा और अभिजीत की बताओ में वो भी शामिल हो गयी, थोड़ी देर बाद तीनों ने मुझे गपशप के लिए इन्वाइट किया..
मैं वहां पे गया तो बात वही चल रही थी की संठान कब होगी…
तब मेरे मन में ये ख्याल आया की अगर मैं पुष्पा के साथ सेक्स करूं तो क्या मैं इसको संठान दिला पाऊँगा..
और इस विचार के साथ ही मेरा लंड पूरी तरह से गरम हो कर हथौड़े की तरह आंडरवेयर पे वार करने लगा..
मन ही मन खुद को कोस रहा था की इतना बूरा विचार क्यों मेरे मन में में आ रहा है ….
थोड़ी कशमकश के बाद मैं खामोश हो गया और मैंने सुधा से जल्दी से खाना खाने और घर चलने की बात कही..
फिर सुधा ने और पुष्पा ने डिनर टेबल रीडी किया और खाना परोसा..
मेरा साला मल्टिनॅशनल कंपनी में होने की वजह से विस्की रूम का आदि था..
उसने हम सब को विस्की का ऑफर किया मैं तो कभी शराब पीता नहीं तो मैंने नहीं ली.,,,
सुधा कई बार बाहर पे चुकी थी तो उसने विस्की को मना नहीं किया..
पुष्पा को डिनर सर्व करना था इसलिए उसने भी मना कर दिया…
जैसे जैसे टाइम होता चला गया ये भाई और बहन पीते चले गये पीते चले गये इतने की उन दोनों को कुछ भी होश ना रहा..
बिना खाना खाए ही दोनों टेबल पे ही सो गये.. फिर मैंने और पुष्पा ने मिलकर दोनों को हाल में सुला दिया… और आदतन खाना खाने बैठ गये..
मेरे मन में जो विचार आए थे उनकी वजह से मैं पुष्पा की आंखों में आँख डाल के बात नहीं कर पा रहा था..
फिर भी मेरे मन में ये सवाल आया की क्या पुष्पा के मन में भी कुछ ऐसा चल रहा होगा तो ??
उसका वो चमकीला गोरा बदन मेरे लंड को फिर से सुलगाने लगा… खाना खत्म होते होते पाया की अब वहां पे सिर्फ़ पुष्पा और मैं दोनों ही जगह
रहे थे, मैं वहां से निकालने की तैयारी करने लगा तो पुष्पा बोली जीजाजी आप यही रुक जाए क्योंकि अभिजीत भी पूरी तरह से पिया हुआ है
और सुधा दीदी, बच्चे सोए है..
मेरे मन में वासना के राक्षस उबाल पड़े थे लेकिन मैं अपनी पत्नी से वफादार था इसलिए मैंने फिर भी वहां से जाने की जिद की..
पुष्पा जैसे नाराज़ सी हो गयी और उसने कहा जीजाजी आपसे एक बात करनी है अगर आपको अच्छी लगे तो आप रुक जाओ वरना आप जा सकते हो..
मेरे मन में लड्डू फूटा.. पुष्पा ने मुझे टेरेस पे आने के लिए कहा…
मैं टेरेस पे पहुंचा तो देखा Pऊश्प चाँद के रोशनी में खड़ी है मेरी और देखती मैंने पूछा क्या बात है… उसने कहा जीजाजी क्या आपको
नहीं लगता की मेरा और अभिजीत का रिश्ता अच्छा रहे और हम खुश रहे.. मैंने कहा ओफ्कोर्स मेरी तो ये दिलिखवाहिश है की तुम दोनों सुखी और
संतनवान रहो… पुष्पा बोली जीजाजी मुझे नहीं मालूम की हम दोनों में क्या कमी है और ना ही मेडिकल फील्ड इसका जवाब दे रही है.. मुझे बॅस
अब एक ही ख्याल आ रहा है.. मैंने पूछा क्या..?
जीजाजी या तो अभिजीत की दूसरी शादी करवाई जाए या फिर अडॉप्षन किया जाए..
मैंने उसके दोनों बताओ से इनकार किया.. और कहा की सोचो अगर तुम खुद प्रेगञेन्ट हो जाओ तो…
वो बोली 4 साल से हम दोनों कोशिश कर रहे है लेकिन हर बार की असफलता ने अभिजीत को निराश कर दिया है..
वो ये सब कहने में झीजक रही थी मैंने उसके मन के भाव पढ़ लिए और जान गया की इसके मन में मेरे बड़े में क्या चल रहा है ???
मैंने कहा ” एक काम करो नीचे बेडरूम में चलो मैं तुम्हें इसका टालतोड़ सल्यूशन देता हूँ..”
वो झट से बेडरूम की तरफ चल पड़ी… मैं उसके पीछे पीछे बेडरूम तक गया…. मेरा मन बहुत तेजी से धड़क रहा था… लेकिन जाते जाते..
मैं उसके भी और ध्यान दे रहा था तो देखा पुष्पा के वक्ष भी बुरी तरह से नीचे ऊप्पर हो रहे थे….
अब हम दोनों बेडरूम में पोहॉंच गये.. बेडरूम पूरी तरह से सुहागरात की तरह सजा के रखा गया था क्योंकि आनिवर्सयरी जो थी…
वो दरवाजे पे खड़ी मेरा स्वागत कर रही थी.. मैंने जैसे ही रूम में एंट्री मारी उसने दूर लॉक कर दिया… इससे उसकी मंशा साफ जाहिर हो
गयी वो पीछे मुड़ी तो मैंने देखा की उसकी सांसें फूली हुई थी.. वो मेरे साथ सेक्स करना चाहती थी लेकिन उसकी हिम्मत जवाब दे रही थी…
कमरा पूरी तरह से रोशनी से भरा हुआ था, मैं उसके करीब गया और उसको अपनी बाहों में भर लिया उसने कोई विरोध नहीं किया मेरी हिम्मत और
बढ़ती गयी,, मैंने पुष्पा के गले पे चूमना शुरू कर दिया… गोरा बदन जैसे गुलाबी सा होने लगा पहली बार सुधा की जगह कोई और मेरी
बाँहों में थी.. मैंने उसे बेड पे लिटा दिया और उसके ऊप्पर चुंबन की बरसात करने लगा मैंने उसके पेट पे गर्दन पे कमर पे अपने होंठ रखने
शुरू कर दिए, वो सिसकने लगी, तड़पने लगी.. मैंने उसका पल्लूओ कंधे पे से हटा के बेड पे फेंक दिया तो ब्लाउज से वक्ष की मूव्मेंट बड़ी
ही उत्तेजणपूर्ण और रोमांच के उफ्फान पे थी.. मैं मन ही मन अभिजीत से जलन महसूस करने लगा…मेरे हाथ मेरे कंट्रोल में नहीं थे
बड़ी ही तेजी से मेरे हाथ उसके पेट कमर, वक्ष, और गर्दन पे से घूम रहे थे वो बड़ी ही प्यारी पीड़ा का अनुभव करने लगी… एकबार मैंने
उसके और देखा और फिर उसके होठों पे अपने होंठ रख दिए, एक पल के लिए जैसे मानो पूरा शरीर गरम हो गया सांसें उखाड़ने लगी और ऐसा
लगा की मैं स्वर्ग में आ गया हूओ…. मैं उसके होंठ अपने होंतोसे चूस रहा था, वो भी अपने होठों से मेरे होठों को चूस रही थी 10 मिनिट
तक हम यौही चिपके हुए से थे फिर मेरे लंड ने बगावत करनी शुरू करदी और वो आंडरवेयर से जंग करने लगा… शायद पुष्पा की चुत भी
गरम हो चुकी थी वो भी अपने शरीर से मेरे शरीर को रगड़ रही थी… पहले मैंने उसका ब्लाउज और ब्रा उतार दिया
और उसकी मध्यम आकर के लेकिन बड़े ही सुन्दर वक्ष को देखा और उनको चूमना शुरू किया… फिर उसकी सारीपेटीकोआट का नाडा खींच के गाँठ
निकल दी अब वो सिर्फ़ पैंटी में थी वाइट रंग की वो पैंटी जो रही रही के उसके चुत को साफ से दिखा रही थी और चुत का आकार धारण कर रही
थी,, देखकर मेरा तो खून जैसे उबलने लगा…. इतनी गोरी चिट्ठी, मुलायम टांगे मस्त आकर की उभार वाली चुत को देख के मैं तो उसका
दीवाना हो गया… वो भी झट से उठी और मेरी शर्ट और पेंट उतरने लगी वो अपने घुतनों के बाल बैठी थी तो उसकी पीठ पे हाथ फेरने लगा
फीत से उसके गान्ड की तरफ मेरे हाथ बढ़ने लगे उसके बड़े ही सुडौल नितंब नाज़ुक मुलायम और मस्त थे… मैंने पीछे से हाथ डालके उसकी
पैंटी उतारनी शुरू कर दी वो तब तक मेरे कपड़े उतार चुकी थी और अब मैं भी आंडरवेयर से निजात पाना चाहता था… मैंने खुद अपनी आंडरवेयर
उतार दी और अपना ठाना हुआ लॅंड उसके सामने दिखा दिया… उसकी क्लीन शेव्ड चुत बहुत ही आकर्षक थी मेरा मन उसको चातने की कह रहा था
और लंड उसके अंदर जाने को तड़प रहा था …. मैंने उसे अपनी बाँहों में उठा लिया और फिर से बेड पे लिटा या और पुष्पा की दोनों टांगे उप्पर उठा
के उसके चुत को चातना आरंभ किया… सुधा की तरह वो भी मुझे मीठा ही लगा टेस्ट में थोड़ा सा डिफरेन्स था लेकिन चातने में मजा आ रहा
था… अब मैं पूरी ताक़त से अपनी जीभ उसके चुत पे से घुमा रहा था और नीचे मेरा लंड पूरी वेटिंग पे खड़ा था… मेरे चातने का असर
पुष्पा पे मुझसे कई गुना ज्यादा हो रहा था वो अपनी हाथों से तकिये को जकड़े हुए थी और उसकी चुत पूरी तरह से मेरे सेनापति के लिए
द्वार खोल के रीडी थी.. मैंने अपना लंड ठीक उसके चुत के छेद तक पहुंचाया और एक छोटासा धक्का दे दिया… उसके चुत से बहुत सारा रस
टपक रहा था इसलिए मेरे लंड को घुसने में आसानी हो रही थी लेकिन फिर भी उसकी चुत बड़ी ही टाइट थी और सुधा के मुकाबले आधी ही थी..
जैसे ही मेरे लुंक का उभर वाला भाग उसके चुत के मुंह पे आया उसके मुंह से एक दबी हुई चीख आई… मैं ने उसके होठों पे फिर से अपनी
होंठ रख दिए तो अब वो चीख भी नहीं पा रही थी और मेरा लंड प्रेशर के साथ उसके किल्ले के दरवाजे को झिंझोड़ता हुआ उसकी चुत में
घुस गया.. उसके होंठ जैसे सफेद पड़ गये और दर्द का अनुभव चेहरे पे दिखाने लगा.. लेकिन वो फिर रीडी पोज़िशन में आई और उसने मुझे ऊप्पर
उतने के लिए मेरे कमर को हाथ से उतने की कोशिश करने लगी मैं उसका इशारा समझ गया और मैंने धीरे धीरे मेरा लंड अंदर बाहर करने
लगा हम चूमते रहे लंड को अंदर बाहर करते रहे वो झूमती रही कमर को आगे पीछे करती रही… 10-12 मिनिट में वो शांत हो गयी और
थोड़ी ही देर में मेरा भी काम हो गया मैंने उसकी कमर को थोड़ी देर के लिए ऊप्पर उठा के हाथों से पकड़ा और मेरे लंड को चुत के अंदर ही
रहने दिया….
उसके बाद तक कर चोद हो कर हम एक दूजे के बाँहों में सो गये और एक छोटी सी झपकी लेने के बाद मैं जगह गया और मैंने उसे
उठाया… अब हमारा रिश्ता जैसे पति पत्नी का रिश्ता बन गया था… वो पूरी तरह से निर्वस्त्र मेरे साथ बैठी थी.. मैंने उससे कहा की
एक ही बार ऐसा करवाने से तुम प्रेग्नेंट नहीं हो सकती… उसकी आंखों में एकदम से पानी उभर आया… मैंने उसको समझाते हुए एक किस लिया और
कहा की आज जो कुछ हुआ है ऐसा अगर हर माह तुम्हारे मेंकसे पीरियड के 8 दिन बाद हर रोज़ और और मेंकसे पीरियड से 8 दिन पहले तक करने से
ही पता चलेगा की तुम प्रेगञेन्ट हो सकती हो या नहीं… वो बड़ी ही असहाय नज़ारो से मुझे देख रही थी… फिर मैंने उसे एक छोटा सा उपाय बताया
की क्यों ना अभिजीत और पुष्पा दोनों हमारे यहां 3-4 महीने रहने के लिए आ जाए ताकि हवा पानी चेंज होने से संठान की उम्मेड बढ़ती है तो
उसने इस आइडिया को स्वीकार किया लेकिन कहने लगी की सुधड़ी को अगर पता चल गया तो क्या होगा.????
मैंने कहा की इसकी तुम चिंता मत करो मैं इसका सल्यूशन जानता हूओ… उसने कहा कैसे लेकिन ….. मैंने कहा की दोनों भाई बहन पीने के
शौकीन है डेली एक पेग तो जरूर पिएँगे मैं उन की शराब में बेहोशी की दवा डालने का इंतजाम करता हूँ और फिर देखना काम बन जाएगा…
वो खुश हुई और मुझे किस कर लिया….. हमारा काम बन गया मेरे सास ससुर इस बात से खुश हुए और उन्होंने साले और उसकी बीवी को हमारे यहां रहने की पर्मिशन दे दी..
मेरा साला भी खुश था और सबसे ज्यादा खुश मैं और पुष्पा थे… फिर रोज मैं नयी नयी शराब की बोतल लेकर आता और खामोशी से उसमें नींद की गोलियां मिला देता….
मेरी बीवी सुधा और अभिजीत जैसे ही नींद के हवाले होते हम दोनों एक हो जाते… दिन बड़े ही कशिश वाले होते और रात बहुत ही हसीना,
उसके बाद 2 महीने लगभग हर रात मैं पुष्पा का रस पिता रहा और वो मेरा लंड चुसती रही.. हर रात कुछ ना कुछ नया सा हम
ट्राइ करते रहे वो पूरी शिद्दत से मुझसे चूड़ रही थी मैं भी बड़ी प्यार से उसे चोद रहा था… 3 र्ड महीने में जब उसकी मेंकसे नहीं आई
तो हम सभी बड़े ही खुश हो गये. और डॉक. के पास्स चेक आप के लिए गये तो पुष्पा पेट से थी…
मेरे सास ससुर तो मानो जैसे पागल हुए जा रहे थे इस बात को लेकर, मेरा साला भी बहुत ही खुश रहने लगा उनकी खुशी देखकर
सुधा मुझे बोली डार्लिंग तुम्हारे प्लेस चेंजिंग के आइडिया ने पुष्पा और अभिजीत के जिंदगी में एक बड़ा ही बदलाव लेकर उनको जिंदगी और शादी शुदा लाइफ का
सबसे बड़ा गिफ्ट दिया है… मेरी बीवी और साले के मन में मेरी इज्जत तरफ गयी और वो दोनों भी ये बात खुले आम कहने लगे,,
फिर एक दिन मैंने डिसाइड किया की अब ये सिलसिला बंद कर देना चाहिए और मैंने पुष्पा से कहा के अब तुम दोनों खुदके घर में रहोगे तो अच्छा होगा,
और अभिजीत और पुष्पा दूसरे ही दिन जाने के लिए रीडी हो गये.. फिर से उसी रात सेलेब्रेशन का माहौल बन गया..उसे रात सेलेब्रेशन ने फिर से हमको
नज़दीक आने का चान्स दिया लेकिन हम दोनों अब उदास थे क्योंकि पति पत्नी का जो नाता हम 2 महीने से निभा रहे थे वो अब रुकने वाला था…
और उसे रात हमने खूब जमकर सेक्स किया…..पुष्पा का जाने का मन नहीं था लेकिन मेरे समझाने के कारण वो मन गयी.. फिर सोचा क्या पता जिंदगी फिर कोन से मोड पे हमें पास ले आए..
अब मैं मेरी सुधा को पहले से भी ज्यादा प्यार करता हूँ और पुष्पा का ख्याल मेरे दिमाग में भी नहीं आता..
अभिजीत तो पुष्पा को पहले से कही बढ़कर प्यार करने लगा है क्योंकि उसकी वजह से तो वो बाप बन रहा है….
अब मैं ये सोचता हूँ की मेरे ससुराल के परिवार में मैंने इस कदर खुशी के रंग भर दिए है, लेकिन क्या ये पाप है या पुण्या.

read more

पति को चाहिये गोरी और मुझे काला

हैल्लो दोस्तों, हमारी शादी को अभी तीन सप्ताह ही हुए antarvasna Kamukta hindi sex indian sex chudai Kahania थे कि मेरे मम्मी पापा ने मुझे अचानक से मेरे घर पर बुला लिया और हम दोनों ने अभी सेक्स का भरपूर मज़ा भी नहीं उठाया था कि हमको अब कुछ दिनों के लिए अलग अलग होना पड़ा और फिर में अपने घर पर आ गई मेरे पति को मेरा अपने घर पर जाना मंजूर नहीं था, लेकिन सेक्स के अलावा भी उस समय बहुत नियम थे। दोस्तों मेरे घर में मेरे पापा, मम्मी और मेरा एक छोटा भाई है और वो तो मेरा यार था। मेरा मतलब वो मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त है और दोस्तों आप सभी समझ सकते है कि शादी के बाद किसी भी लड़की का अपने घर पर आकर अकेले में बिस्तर पर रात गुजारना कितना मुश्किल होता है और फिर जिस रात को में अपने घर पर आई थी, उस रात को हमारे घर पर एक छोटी सी पार्टी थी। उस दिन मेरे छोटे भाई के जन्मदिन की पार्टी थी। मेरे घर पर पहुंचते ही घर के सभी लोग बहुत खुश हो गए थे और हमने उस रात को बहुत मज़े किए और जब पार्टी चल रही थी तभी मैंने वहां पर एक अंजान लड़के को उस पार्टी में देखा, जिसका चेहरा मेरे पति से बिल्कुल मिलता था। मैंने जब अपने भाई से पूछा कि वो काला सा आदमी कौन है? तो उसने मुझे बताया कि वो उनके कॉलेज का टीचर है और वो उन दिनों में मेरे पापा का बहुत अच्छा दोस्त भी बन गया है।

read more

भाभी की तड़प

फ्रेंड्स मैं अंकुश हाइट 182 और आत्लेटिक बिल्ट का जालंधर से हूँ और मुझे मॅरीड गर्ल्स, भाभी’स की चुत लेने में बहुत मजा आता है क्योंकि इसमें कोई डर नहीं होता और ऐसी भाभी’स चुदवाने में बहुत मजा देती है. अब मैं आप सबको बोर ना करते हुए स्टोरी पर आता हूँ.

read more

कुंवारी चूत की सेक्सी मालकिन

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आरूश है और में पुणे का रहने वाला हूँ antarvasna Kamukta hindi sex indian sex chudai Kahania दोस्तों यह मेरी कामुकता डॉट कॉम पर पहली कहानी है और में कामुकता डॉट कॉम का पिछले दो साल से पाठक हूँ। मुझे इसकी सेक्सी कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है और आज में आप सभी के सामने अपनी गर्लफ्रेंड की पहली चुदाई की उस घटना को सुनाने जा रहा हूँ, जिसमें मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा और बहुत मज़े किए और में उम्मीद करता हूँ कि यह चुदाई की सच्ची घटना आप सभी को जरुर पसंद आएगी, क्योंकि यह बहुत हॉट चुदाई है। अब आपको ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधे में अपनी आज की कहानी पर आता हूँ। दोस्तों यह बात उस समय की है जब में कॉलेज के दूसरे साल में अपनी पढ़ाई कर रहा था। दोस्तों आज से चार साल पहले में जहाँ पर मेरी ट्यूशन के लिए जाता था तो वहां पर पास में 12th के स्टूडेंट्स की भी ट्यूशन चलती थी और वो लड़की भी वहां पर आती थी। उस वक़्त उसकी उम्र 19 वर्ष की थी और उसका नाम इशिका था और वो बहुत सेक्सी माल थी। दोस्तों उसके फिगर का साईज 32-28-34 था, वो दिखने में भी बहुत सुंदर थी और वो मुझे पहली नजर में ही भा गई थी और में उसके आगे-पीछे घूमने लगा और उससे बात करने के मौके ढूंढने लगा था, वो भी अब मेरी तरफ कभी कभी मुस्कुरा जाती थी और उसकी नजरे भी अब मुझ पर ही टिकी रहती थी, लेकिन वो मुझे देखकर जानबूझ कर अनदेखा करने लगी थी और फिर दस दिन बाद मैंने उसे एक ग्रीटिंग दिया और अपने प्यार के बारे में बताया, मैंने उस ग्रीटिंग पर अपना मोबाईल नंबर भी लिख दिया था। फिर अगले दिन मेरे मोबाइल पर उसका फोन आया और उसने मुझसे कहा कि वो भी मुझे बहुत पसंद करती थी, लेकिन बस वो मुझसे पहल चाहती थी। दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर में मन ही मन बहुत खुश हुआ और मैंने उससे कहा कि में तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ और तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, क्या तुम भी मुझे चाहती हो? तो उसने तुरंत मुस्कुराकर मुझे हाँ में अपना जवाब दिया।

read more

मेरी प्यारी मकान मालकिन भाभी की चुदाई

हेलो फ्रेंड आज मैं आपलोग को जो स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ, मेरा नाम रोहन है मैं अपने फ्रेंड के साथ रहता था, ये कहानी उसे टाइम का है जब मैं पढ़ाई करता था, मेरा एक फ्रेंड था ध्रब वो एक रूम लेकर रेंट पे रहता था, अक्सर मैं भी उसके रूम पर रहता था, ध्रब का मकान मलिक को हम भैया बुलाते थे, और उनकी वाइफ का नाम था अन्नू वो बहुत ही हॉट और बेअतुटीफुल थी, मकान मलिक वो बहुत मज़ाक करता था दिल खुश इंसंन् था वो, एक बार की बात हे में कोल्ज़ गया हुआ था दोपहर को वापस आया तो मेने देखा के घर पे सीमा भाभी जी जी नहीं है भैय किसी लड़की को ला रक्के है, मेने पूछा अपने फ्रेंड से ये लड़की कौन है तो मेरे फ्रेंड ध्रब ने बताया की ये भैया की गर्ल फ्रेंड है तो मुझे शॉक लगा की शादी शुदा की गिर्ल्फीर्नद और वो भी उसके घर के अंदर,

read more

मेरी पड़ोसन सोनम की दर्दनाक चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमित है और में दिल्ली का रहने वाला हूँ antarvasna Kamukta hindi sex indian sex chudai Kahania मेरी उम्र 19 साल है और मेरे घर में हम तीन लोग है और में एक इंजिनियरिंग का स्टूडेंट हूँ। दोस्तों मुझे बचपन से ही सेक्स करने में बहुत रूचि रही है, मुझे सेक्सी बदन को ताकना बहुत अच्छा लगता है और अब में पिछले कुछ सालों से कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ, मुझे ऐसा करने से बहुत संतुष्टि मिलती है क्योंकि में कभी कभी मुठ मारकर अपने लंड को शांत भी करता हूँ। दोस्तों में आप सभी को अपनी आज एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ जो कुछ समय पहले मेरे साथ हुई एक घटना है, जिसमें मैंने अपनी पड़ोसन को चोदा। में उम्मीद करता हूँ कि यह आप सभी को जरुर पसंद आएगी। अब में अपनी कहानी पर आता हूँ।

read more